• +91 6299116616
  • info@wspl.biz
...

RICH DAD POOR DAD

रिच डैड , पुअर डैड (RICH DAD POOR DAD) पुस्तक के लेखक (ROBERT T KIYOSAKI) कहते है।

मेरे पुअर डैड हमेशा कहते है  कि  अच्छी पढ़ाई करो, अच्छे नंबरो से पास हो ताकि कोई अच्छी नौकरी मिल सके।
हमेशा नोकर बनने की शिक्षा देते वहीँ मेरे अमीर डैड कहते है कि मालिक बनकर रहो 5 हजार 10 हजार लोग तुम्हारे लिए काम करें। सिस्टम बनाओ फिर लाखों करोडो लोग तुम्हारे लिए काम करेंगे  !
 
धीरू भाई अम्बानी ने सिस्टम बनाया, दो IIT क्वालीफाई लोगो को हायर किया। उनके ब्रेन पॉवर का इस्तेमाल किया , CEO का पद दिया बदले में  1 लाख रुपये की सेलरी दी।
फिर 4 MBA पास लोगों  को business manager बना दिया, 50 हजार की सेलरी दी , इनके ब्रेन पॉवर का इस्तेमाल किया।
development ऑफिसर बनाया 35 हजार की सेलरी दी, इनके ब्रेन एंड मस्कूलर पॉवर का इस्तेमाल किया।

फिर supervisor रखे , 25 हजार की सेलरी दिया।

फिर 20 हजार से 5 हजार तक के लाखों वर्कर (कर्मचारी) रखे और
    आज भारत के सबसे अमीर आदमी बन गए ।

हमारे स्कूल में मालिक बनाने की शिक्षा क्यों नहीं दी जाती है ????

 हमेशा 50हजार 1लाख रुपये प्रति माह के लिए जी जान लगा कर पढ़ो , ही कहते है।

हमें इन बिजनेस मालिको की तरह, मालिक बनने वाला काम न  सिखा कर, इनके नौकर  बनने की शिक्षा ही क्यों दी जाती है।

एक कलेक्टर, एक कमिशनर के पॉवर से ज्यादा इनका पॉवर होता है।
सरकार केअर करती है।
प्रदेश सरकार भी इन '' लक्ष्मीपुत्रो '' को बुलाती है और कहती है ,
आप हमारे प्रदेश में  इन्वेस्ट करें।
क्योंकि सरकार जानती है।
जिस प्रदेश में  इनकी कृपा हो गयी प्रदेश आगे बढ़ जायेगा।

आप सिस्टम नहीं बना सकते क्योकि इतना पैसा नहीं है,

सिस्टम "Network Marketing" ने बना दिया है और मालिक आपको बनना है। आप कितने वर्कर को अपने लिए काम पर लगा सकते हैं ।

आप पर निर्भर करता है। वो लोग काम अपने लिए करेंगे फायदा आपको होगा। अगर 5 हजार लोग आपके नीचे अपने लिए काम करेंगे । तो  कम से कम 10 लाख रुपये  की मासिक आय होगी।


जनगणना अनुसार कुल आबादी -

1961--35 करोड़ थी
1971 -- 45 करोड़ थी।
1981--- 65 करोड़ थी।
1991---85 करोड़ लगभग
2001--91 करोड़ लगभग
2011--121 करोड़ लगभग
2021--140 करोड़ लगभग होगी ।
2031--165 करोड़ लगभग होगी ।
 
सोच कर देखना, आज जो इसे इग्नोर करेगा, बाद में  हमारे बच्चे हमसे कहेंगे ,
उस समय आप क्या कर रहे थे ? आप से ये छोटा सा काम नहीं हो सका।
क्या जबाब देंगे आप ????


अर्थशास्त्रियों व बुद्धिजीवियो का कहना है, 21वीं सदी DSM (डायरेक्ट सैलिंग मार्केटिंग) हैं।

जो अवसर को पहचान गया वो आने वाले समय का अमीर आदमी होगा।

वर्ना जो कल कहते थे : Computer को देश में मत आने देना, मशीनों को देश में  मत आने देना, कई लोग बेरोजगार हो जायेंगे।
वो ही आज भी नौकरी कर रहे हैं और नौकरी करने की शिक्षा दे रहे हैं व आर्थिक रूप से पिछडे हैं ।

जिन्होने Computer को सपोर्ट किया, कम्प्यूटर का बिजनेस किया, आज अरब पति हैं ।
 
अब भी समय है, सही निर्णय लीजिये, समय के साथ चलिये, सही व्यापार अपनाईये  व अपने साथ-साथ सभी लोगों व अपने देश को भी मजबूत बनाइये

दोस्तों हम 12th तक पड़ते है
उसके बाद 3 साल का Graduation
उसके बाद 2 साल की
मास्टर डिग्री 17 साल पढ़ाई की
उसके बाद किसी कंपनी
इंटरव्यू के लिए जाते है।
पढ़ाई में लाखो रूपये खर्च करने के बाद
सामने बैठा हुआ शक्स यह निर्णय लेता है कि
आपको महीने में कितनी सेलेरी मिलेगी।
1 बात सोचो की पढ़ाई की आपने पैसा लगाया आपने
तो वो सामने बैठने वाला शख्स कोन होता है आपके दाम लगाने वाला।
की आपको कितनी सेलेरी देना चाहिए

इसमें आपकी कोई गलती नहीं है दोस्तों
दरअसल आप जहाँ रहते है
आपके माता-पिता आपके पडोसी रिश्तेदार लोगो ने आपके दिमाग में एक ही बात डाल रखी है
की बेटा तुमको अच्छे से पढ़ाई करना है और एक अच्छी नोकरी करना है
ये नोकरी करने का कीड़ा सब लोगो ने आपके दिमाग में भर रखा है।
लेकिन
एक बार सोचो की नोकरी करने से क्या होता है
आप अपने  दिन के 24 घंटो में से 10 घंटे आपके बॉस को देते हो और उनसे 10000 रूपये लेते हो
कोई कोई दिन के 14 घंटे देकर 15000 रूपये लेता है
इसका मतलब साफ़ है कि आप अपना समय बेंच रहे हो
आप आपके बॉस को 1 लांख का प्रॉफिट देते हो तब जाकर आपको 10 हजार रूपये मिलते है
सीधा गणित है आपको आपकी मेहनत का 10% मिलता है
 आपके जैसे हजारो लोग
1 कंपनी में काम करते है|

आपका बॉस आपका
Time
Talent
Quality
Effort
Luck,

सभी Use करता है

-धन्यवाद!!!